दिनचर्या दिनचर्या

दिनचर्या अस्तव्यस्त होने के कारण कई बार दिन के समय आलस सा छाया रहता है एवं बार बार नींद आने का आभास होता है. इस कमज़ोरी एवं आलस को जड़ से सही करने के लिए निम्न उपाय करें.

1 रात को दलिया एवं दूध का भोजन करें. इसके अतिरिक्त कोई भी गरिष्ठ पदार्थ का सेवन रात को वर्जित है.

2 सुबह नींद पूरी हो जाए इसके लिए ज़रूरी है की लैपटॉप कंप्यूटर एवं मोबाइल को रात 10 बजे के बाद अपनी पहुँच से दूर कर दें एवं जल्दी सोने की कोशिश करें ताकि 8 घंटे की पूरी नींद शरीर को प्राप्त हो सके.

3 सुबह यदि हो सके तो कुछ देर हल्का फूलका व्यायाम अवश्य करें . व्यायाम करने से मांसपेशियाँ मजबूत होती हैं एवं शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है.

4 अश्वगंधा का चूर्ण एक एक चम्मच (5 ग्राम) सुबह शाम गुनगुने दूध से अवश्य लें. 30दिन के बाद यह चूर्ण दिन में किसी भी एक समय ही लें. 90 दिन के बाद इसका सेवन बंद कर दें. साबुत अश्वगंधा किसी भी पंसारी से मिल जाती है इसको धूप में कुछ देर रख कर पीस कर छान कर रख लें. यही चूर्ण प्रयोग में लेवे. बाजार का पीसा हुआ अश्वगंधा ना लें.

यह सभी उपाय करने से शरीर से आलस हमेशा के लिए चला जाता है. सिर्फ़ कोई गोली लेने से मिलने वाली ताक़त के भ्रम जाल में ना आएँ. शरीर को हमेशा फुर्तीला रखने के लिए उपर लिखित सभी उपाय करें लाभ अवश्य ही होगा.

वैद्य जी vaidya ji
#vaidyaji 



Leave a comment :